Thursday, 20 August 2015

चेहरे

नकाबों में छुपे हैं चेहरे कितने
झूठे थे ख्वाब जो, वो सुनहरे कितने
निगाहें भी निगेहबां भी हमारे वो
दिखाये अक्स जो, वो दोहरे कितने

----  नीरु ( निरुपमा मिश्रा त्रिवेदी)

Post a Comment